POEMS

Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi | | अटल बिहारी वाजपेयी की सर्वश्रेष्ठ कविताये

Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi:-  नमस्कार, मित्रो कैसे है आप सब आज हमने आप सभी के लिए अटल बिहारी वाजपेयी की कुछ प्रसिद्ध वे लोकप्रिय कविताये आपके साथ शेयर करने जा रहे है। दोस्तों जैसा की आप सभी जानते है की अटल बिहारी जी हमारे भारत के पूर्व प्रधानमंत्री रह चुके है। इन्होने अपनी काबिलियत के दम पर 2 बार भारत के प्रधानमंत्री का पद भार संभाला। अटल बिहारी वाजपेयी एक प्रधानमंत्री होने के साथ साथ एक प्रसिद्ध लेखक भी थे उन्होको कविताये वे रचनाये लिखने का बेहद शोक था। आज हम अटल बिहारी वाजपयी की कुछ रोचक कविताये आपके साथ शेयर करने जा रहे है। अगर आप भी अटल बिहारी जी के प्रशंशक है तो हमारी पोस्ट पर लास्ट तक बने रहे। 

अटल बिहारी वाजपेयी जीवन परिचय :- दोस्तों 3 बार भारत के प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी जी का जन्म मुख्य तोर पर 25 दिसंबर 1924 में मध्य प्रदेश जिले के ग्वालियर के एक गांव मे हुआ था। इन्होके पिता का नाम कृष्ण बिहारी वाजपेयी वे माता का नाम कृष्णा बिहारी वाजपेयी था इन्होके पिता एक लेखक थे। इन्होने अपनी प्रारंभिक शिक्षा सरस्वती शिक्षा मंदिर, गोरखी, बाड़ा, विद्यालय से सम्पूर्ण की वे आगे हाई विधालय की शिक्षा लक्ष्मीबाई बिश्विधालय से की थी। बाद में इन्होने राजनीति में हाट आजमाया और भारत के प्रधानमंत्री के रूप में उभरे। आज ये हमारे बीच नहीं रहे 16 अगस्त 2018 को दिल्ली के एम्स अस्पताल में इन्होने आखरी सास ली और ये महान हस्ती हम सब को अलविदा कह गई। 

आइये अब इन्होकी कुछ रोचक वे प्रसिद्ध कविताओं के बारे में जानते है।

Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi – अटल बिहारी वाजपेयी कविता संग्रह

Inspirational Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi – अटल बिहारी वाजपेयी शायरी

दुनिया का इतिहास पूछता,

रोम कहाँ, यूनान कहाँ?

घर-घर में शुभ अग्नि जलाता।

वह उन्नत ईरान कहाँ है?

दीप बुझे पश्चिमी गगन के,

व्याप्त हुआ बर्बर अंधियारा,

किन्तु चीर कर तम की छाती,

चमका हिन्दुस्तान हमारा।

शत-शत आघातों को सहकर,

जीवित हिन्दुस्तान हमारा।

जग के मस्तक पर रोली सा,

शोभित हिन्दुस्तान हमारा।

✦✦✦Famous Atal Bihari Vajpayee Poems -आओ फिर से दिया जलाएं✦✦✦

भरी दुपहरी में अंधियारा,

सूरज परछाई से हारा,

अंतरतम का नेह निचोड़े,

बुझी हुई बाती सुलगाए,

आओ फिर से दिया जलाएं,

हम पड़ाव को समझे मंजिल,

लक्ष्य हुआ आंखों से ओझल,

वर्तमान के मोह जाल में,

आने वाला कल ना भुलाये,

आओ फिर से दिया जलाएं,

आहुति बाकी यज्ञ अधूरा,

अपनों के विघ्नों ने घेरा,

अंतिम जय का ब्रिज बनाने,

नव दधीचि हड्डियां गलाए,

आओ फिर से दिया जलाएं||

✦✦✦Short Poem By Atal Bihari Vajpayee – परिश्रम✦✦✦

बाधाएं आती है आए,

घिरे प्रलय की घोर घटाएं,

पावो के नीचे अंगारे,

सिर पर बरसे यदि ज्वालाएँ,

नीच हाथों में हंसते-हंसते,

आग लगाकर जलना होगा,

कदम मिलाकर चलना होगा||

ईट से ईट बजाना होगा,

दुश्मनो को हिलाना होगा,

एक दूसरे का हाथ थामना होगा,

सब को कदम से कदम मिलाकर चलना होगा|

✦✦✦हरी हरी दूब पर | Atal Bihari Vajpayee Poems✦✦✦

हरी हरी दूब पर
ओस की बूंदे
अभी थी,
अभी नहीं हैं|
ऐसी खुशियाँ
जो हमेशा हमारा साथ दें
कभी नहीं थी,
कहीं नहीं हैं|

क्काँयर की कोख से
फूटा बाल सूर्य,
जब पूरब की गोद में
पाँव फैलाने लगा,
तो मेरी बगीची का
पत्ता-पत्ता जगमगाने लगा,
मैं उगते सूर्य को नमस्कार करूँ
या उसके ताप से भाप बनी,
ओस की बुँदों को ढूंढूँ?

सूर्य एक सत्य है
जिसे झुठलाया नहीं जा सकता
मगर ओस भी तो एक सच्चाई है
यह बात अलग है कि ओस क्षणिक है
क्यों न मैं क्षण क्षण को जिऊँ?
कण-कण मेँ बिखरे सौन्दर्य को पिऊँ?

सूर्य तो फिर भी उगेगा,
धूप तो फिर भी खिलेगी,
लेकिन मेरी बगीची की
हरी-हरी दूब पर,
ओस की बूंद
हर मौसम में नहीं मिलेगी|

✦✦✦Poems of Atal Bihari Vajpayee in Hindi✦✦✦

खून क्यों सफेद हो गया?

खून क्यों सफेद हो गया?
भेद में अभेद खो गया.
बंट गये शहीद, गीत कट गए,
कलेजे में कटार दड़ गई.
दूध में दरार पड़ गई.
खेतों में बारूदी गंध,
टूट गये नानक के छंद
सतलुज सहम उठी, व्यथित सी बितस्ता है.
वसंत से बहार झड़ गई
दूध में दरार पड़ गई.
अपनी ही छाया से बैर,
गले लगने लगे हैं ग़ैर,
ख़ुदकुशी का रास्ता, तुम्हें वतन का वास्ता.
बात बनाएं, बिगड़ गई.
दूध में दरार पड़ गई.

आप यह भी पढ़ सकते है-

Harivansh Rai Bachchan Poems

Sarojini Naidu Poems

Motivational Poems in Hindi

मित्रो में उम्मीद करता हूँ की आपको हमारे माध्यम से लिखा गया Atal Bihari Vajpayee Poems in Hindi पर ब्लॉग पोस्ट पढ़ने वे अटल बिहारी वाजपेयी की लोकप्रिय कविताओं के बारे में जान कर बिहार आनंद मिला होगा। आप ये कविताए Social Media पर अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है। और हमारी पोस्ट वे हमे इतना सारा प्यार देने के लिए आप सभी का धन्यवाद। हम ऐसे ही आपके लिए तरह तरह के आर्टिकल लाते रहेंगे। धन्यवाद। 

Hindi Family

Today Hindi Family is a team of competent people who have written a leading blog. The purpose of which is only to bring the information of every category to all of you. It focuses on the goal of providing you with the best information possible with its team

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button